Meri Gandi Kahani – मेरी गन्दी चूत चुदाई की कहानियाँ – Sex Kahani


मेरी गन्दी चूत चुदाई की कहानियाँ Meri Gandi Kahani Sex Kahani : Hindi Sex Stories

हेलो, फ्रेंड्स
आज मैं आप लोगो के सामने अपने और अपने फ्रेंड (मुकेश) की वाइफ( प्रिया ) के बेच मे हुए घटना के
बारे मे बताने जा रहा हू. मेरा नामे अमित सिंग आगे 26 एअर है और मैं वाराणसी का रहने वाला हू.
मैं और मुकेश बचपन के दोस्त है और हमारा एक दूष्रे क घर आना जाना लगा रहता है. मुकेश के
घर मे सिर्फ़ 4 लोगो है. (मों दाद, मुकेश प्रिया )

मुकेश के शादी अभी कोई 1 एअर हुआ है वो मुंबई मे जॉब करता है . इसलिए घर पे सिर्फ़ प्रिया और मों
दाद रहते है. इसलिए घर का भहर कोई कम रहता है तो अंकल मुझे बोल देते थे. मैं उनलोगे का
फॅमिली मेंबर जैसा था.

अब मैं जाड़ा बोर ना करते हुए कहानी पर आता हू….

प्रिया की आगे 24 एअर है….देखने मे मस्त माल है जिसे देख कैसे का भी लॅंड खड़ा हो जाए. इस बार

मुकेश करवा चौथ पर घर न्ही आया था. तो प्रिया तोड़ी उदास थी.

मैं अंकल के घर गया हुआ था कुछ कम से तो प्रिया को उदश देख कर मेने औंती से पूछा ईस्ये क्या
हुआ. औंती ने खा कुछ न्ही मुकेश न्ही आया ना इसलिए है. मैने खा कोई न्ही आज कल सब ऑनलाइन हो जाता है

वेदीओ कॉलिंग कर लेना. सभी लोग मेरे बात सुनकर हस्पदे.
औंती बोली अमित बेटा अगर टुजे कोई कम ना हो तो प्रिया को बेऔती पार्लर ले जाना है. मैं ओक बुत वन अवर
बाद मुझे कुछ कम है अभी.

वन अवर के बाद मैने प्रिया को पार्लर ड्रॉप कर दिया और बोला जब फ्री हो जाना तो कॉल कर देना मैं
पिक कर लुगा.

प्रिया : ओक
टू अवर बाद प्रिया का कॉल आया मैं उससे पिक करने गया. तो प्रिया को देखता रहगया.

प्रिया : हेलो क्या हुआ मिस्टर. ?

मे : कुछ न्हैई सोच रहा हू की आज तो तुम दुलहन के तरह लग रही हो …सो ब्यूटिफुल

प्रिया : अछा तो पर सब बेकार है कोई मेरे खूबसूरती के देखने वाला.

मे: मैं हू ना देखने वाला आपका ड्यूवर,मज़ाक करते हुए मैने कहा “ वैसे मैं हर बार करवा
चौथ पर अपने चाट पेर हे रहता हू सयद कोई मुझे देख कर अपना ब्रॅट तोड़ ले”.

प्रिया : अपने घर आगाई और मैं अपने घर चला गया.

मैं च्चत पर घूम रहा था तो प्रिया पूजा करने च्चत पर आए. उसने मुझे देख कर मुश्कराया
सयद उसे मेरे बात याद आगाय होगी. वो पूजा कर के चली गई.

मैं अपने रूम मे चला गया. रत के करीब 10:30 बजे मुझे प्रिया ऑनलाइन देखी मैने व्हाथसूप पर उसे
करवा चौथ का विश किया. उसका थॅंकआइयू का रली आया. फिर हमारे आप्श मे चाटिंग स्टार्ट हो गया.

मे: क्या कर रही हो भाभी ?

प्रिया : कुछ न्ही लाती हो.

मे : क्यो मुकेश के याद आरही है क्या ?

प्रिया : हा

मे: भाभी आज आप ग़ज़ब की सुंदर दिख रही थी.

प्रिया : क्यो बाकी दिन न्ही लगती क्या ?

मे : ऐसे बात न्ही है …आप तो हमेशा अची लगती हो, मगर आज अप एकदम नई नवेली दूलहना लग रही
थी. मैं सोच रहा था ही काश कोई मेरे लिए भी ऐसे सजाता . तो मैं उसे सारी रात पर करता.

प्रिया : ऑश …अछा किसे प्यार करते तोड़ा डीटेल्स मे बतो..

मे : बस समझ जाओ आज हानेयमून वाली रत होती.

प्रिया : क्यो कोई गफ़ न्ही है क्या ?

मे : नही, आपके जैसा कोई मिला ही न्ही

प्रिया : अछा मैं होती तो क्या करते ??

मे : बोल क न्ही कर के देखौगा.

प्रिया : किसे ?

मे : उपेर छत पर आजो.

प्रिया : ओक, मैं डोर ओपन कर के रखती हू. तुम रूम मे आ जाना जब बोलुगी.

मे :मेरे दिल अभी भी न्ही मान रहा है की आजप्रिया जैसे माल मुझसे करवा चौथ के दिन मिलेगी. मैं
च्चत के रास्ते से होते हुए. प्रिया के रूम मे जाता हू प्रिया दुलहन के तरह बेड पर बेती रहती है.मैं अब डोर लॉक करता हू.

मैं उसका घुघाट को उठता हू…प्रिया मुझसे नज़ारे न्ही मिलती सयद वो अब भी सारम लाग कर रही
थाई. और चेहरे पर हल्की स्मेल थी. मैं कोई जल्दी बाजी न्हैई करना चाहता था इसलिए प्रिया के हाथ पेर
अपना हाथ रख दिया. वो अपनी आखो को बंद करके दूष्रे हाथ से बेडशीट को पाकर लेती है.
फिर धीरे से मैं अपनी तरफ खिचता हू प्रिया मेरा आगोश मे समा जाती है. अब भी उसकी आखे बंद रहती
है. मैं दोनो हाथो से उसकी पीठ को सहलाता हू और एअर के नीचे किस करता हू. मेरे किस करते हे प्रिया की
शाशे तेज़ हो जाती है और वो भी मुझसे काश लेती है.

एअर के नीचे किस करता हुआ मैं उसके एअर को स्लोली स्लोली कट करता हू. प्रिया के मुख से सिर्फ़ अयाया
अयाया….की आवाज़ निकलती है मगर उष आवाज़ से जाड़ा तेज़ रूम मे प्रिया के शाषो की आवाज़ सुनाए देती
है. मैं धीरे से प्रिया के कन मे ई लोवे योउ बोलता हू. रूम मे सिर्फ़ टेबले लॅंप जल रहा होता है. मगर
अब भी हमारे बीच एक सब भी कोई बात हुआ हो. दोनो हाथो से प्रिया के फेस को पाकर के उसके लिप्स के पास

अपने लिप्स ले जाता हू मगर उसके लिप्स कप रहे थी. मैं अपने लिप्स प्रिया क लिप्स पर रख दिया. उसने भी अपना

लिप्स खोल कर मेरे लिप्स का सावगत किया. एक दूष्रे के लिप्स को चूष्ने लगे और कट करने लगे. और प्रिया को
बेड पर लेता दिया . प्रिया के लिप्स के लिप्स का सोम रस का रस पॅयन करने लगा. और ब्ल्ौज के उसपर से ही दोनो

बूब्स को मसालने लगा. रयी के समान सॉफ्ट बूब्स को मसलने मे भूत मज़ा आ रहा था और प्रिया के तेज़
शाशे के साथ आवाज़े करने लगी…उफफफफफ्फ़ आआअहह अमित आराम से दर्द करता है. प्रिया को बेड पर बेता

कर उसके ब्ल्ौज के साथ ब्रा शारी भी निकलता हुआ.और मैं भी अपने कपड़े निकल कर सिर्फ़ उंदर्वारे मे
आजाता हू. प्रिया के संगमरमर जैसा बंदन और पपीते जैसे बूब्स और पिंक निपल देख कर मेरा लॅंड
हिलोरे मरने लगता है. प्रिया कोआपनी तरफ खिच कर फिर से किस करने लगता हू और उसके बूब्स के साथ
खेलने लगता हू. प्रिया : आअहह…..सीईईईईई आअहह और फिर प्रिया को बेड पर लेता कर उसके बूब्स के निपल को

मसालने लगता हू. प्रिया मछली के तरह पादपति है. फिर उसके बूब्स के निपल को मूह मे ले कर
चूष्ने लगता हू. निपल को कट करते करते दूसरे बूब्स को मसल राहु…प्रिया सिर्फ़ आखे बंद कर के
आवाज़ निकलती है. बारे बारे बूब्स को चूष्ने क बाद प्रिया के फ्लॅट पेट पर किस करता हुआ. उसके नेवल को
किस करता हू.

और फिर नेवेल के अंडल जेभ दल कर घूमता हू. प्रिया मेरे हेड को डन हाथो से पाकर
कर दबाती है और अपने लेग्स बेड पर रगड़ने लगती है. धीरे धीरे मैं नीचे सरकता हू जहा प्रिया की
पनटी पूरी तरह गीली है. और छूट र्राइव ग़ज़ब की खुसबु बिखर रही है. मैं पनटी के उपेर अपने नाक रगड़ा
और फिर अपने जेब से चाट लिया .

फिर मैने उसके पनटी मे अपने हाथो से खिछा जिस्जे उसने अपने कमर उठा कर मुझसे निकालने की इज़ाज़त
देदिया. औस्की छूट पूरी क्लीन थी और पावरती जैसे फुल्ली थी मैने अपने एक फिंगर उसने दल दिया .
प्रिया : ऑश…..आआहह अमित मुझसे कुछ हो रहा है.

और मैने उसके छूट के दाने को मसालते हुए अपने जीभ लगा दिया मेरे खुरदारे जीभ का स्पर्श
पाकर उसके रोए खड़े हो गये और मैने अपनी जीभ छूट मे दल कर चाटने लगा. प्रिया मारे हेड को
पकड़ कर अपने छूट पे दबाने लगी. तेज़ तेज़ आवाज़े निकले लगी. मुझसे एक पल ऐसा लगा की अंकल अंत्य जाग

ना जाए. प्रिया अपने छूट का पानी मेरे मूह मे चोर दिया . मैं उसके छूट का सोम रस पीकर नशे मे
होगया . इंदर मेरे लॅंड महाराज अंडरवेर के अंदर से फुकर मारा रहे थे.

प्रिया तेज़ तेज़ शःसे ले रही थी और नेड पर निढाल हो गाइए थी. मैने फिर से प्रिया कोई किस करने लगा और
औके बूब्स को चूष्ने लगा . प्रिया कीच मे टाइम मैने जोश मे आकर आए भरने लगी. मैने दर
नकारते हुए अपना लॅंड मूह के तरफ कर दिया .

अब वो मेरा इसहरा समझ चुकी थाई और मारे 6.5” के
लॅंड को देख कर मुश्कराते हू अपने कोमल हाथो से मसालने लगी. और मैने बेड एप्र लेकर अपने आखो
को बंद कर लिया. प्रिया टॉप को चूमते हुए खेलएने लगे और प्रिया गर्म गर्म जेभ के सपर्श से मारे
मूह से आअहह के आवाज़ निकल गया .

प्रिया एक माझे हुए खिलाड़ी के तारह अपने लॅंड को लोलीपोप के तरह
चूष्ने अल्गी . और मैने प्रिया के बाल पाकर कर मूह मे हिलने लगा. मैने देर ना करते हुए प्रिया को
बेड पर लेटया और उसे किस करने लगा . फिर उसके लेग के बेच मे आकर एक पिल्लोव उसके नरम मुलायम
गंद पर लगा दिया जिसे से उसके छूट उपेर उठ गई .

प्रिया मे मारे लॅंड को पक्रड कर अपने गीले छूट पर
लगया . और मैं धीरे धीरे अपना लॅंड छूट मे डालने लगा. प्रिया दर्द के मारे आअहह अहह की
आवाज़ निकालने लगी . भूत दिन से ना चुड़े होने के कारण उसके छूट टाइट हो गई थी मगर 2-3 ढाको मे
मेरा पूरा लॅंड उसके छूट मैं समा गया था .

मैने प्रिया के बूब्स को मसालते हुए लिप्स को छूट कर रह
था . वो पूरी मदहोश हो चुकी थी. और पाने कमर नीचे से हिलने लगे और मारे पूरे लॅंड को कमर
उठा उठा कर लेने लगी. उसके छूट मैं जैसे भाटी लगी हो. प्रिया का रेस्पोसे देख कर मैने भी अपने
कमर को तेज़ के साथ हिलने लगा और रूम मे छूट के फ्फ़ाच फ़फफफच के आवाज़ आने लगी मैने उसके
बूब्स को चूस्ते हुए छोड़ रहा था .

प्रिया सयद 2 बार झार चुकी थी. मैने भी 15 मिंट के चुदाई के
बाद प्रिया के छूट मे ही सारा माल निकल दिया. और प्रिया के बगल मे लेट गया.
और प्रिया के बालो से खेलने लगा प्रिया मे मुझसे ई लोवे योउ अमित थॅंक्स फॉर करवा चौथ आज से मैं
तुम्हारे हू बोल कर गले लगा लिया .
अप लोगो को मेरे रियल स्टोरीस किसे लगी प्लीज़ गिव योर फीड बॅक अमिथसिंग.ब्स्बगमाल.कॉम